Shayari In Waqt Shayari

Shayari In Waqt Shayari

Shayari In Waqt Shayari Waqt Shayari In Hindi  We are sharing the latest collection of Waqt Par Shayari with Images. Find the best हिन्दी नई वक़्त शायरी इन हिंदी Photos, Messages, Quotes, Status, Videos on our blog. Feel free to Download and share them on WhatsApp, Facebook, Instagram,

Shayari In Waqt Shayari

1. वक़्त लगता है खुद को बनाने मे,
इसलिए वक़्त बर्बाद मत करो किसी को मानाने में।

 

2. शायद यह वक़्त हम से कोई चाल चल गया,
रिश्ता वफ़ा का और ही रंगों में ढ़ल गया,
अश्क़ों की चाँदनी से थी बेहतर वो धूप ही,
चलो उसी मोड़ से शुरू करें फिर से जिंदगी।

 

3. बेवजह तुम्हें यु याद करना,
बेवजह दोस्तो को यु परेशान करना,
फिजूल ही था तुम पर वक्त बर्बाद करना।

 

4. कितना चालक है मेरा यार भी
उसने तोहफे मे घडी तो दी है
मगर कभी वक़्त नहीं दिया

 

5. लगा कर हमे आदत अपनी इस मोहब्बत की अब,
कहते हो दूर रहो हमसे मेरे पास वक़्त नही अब।

 

6. वक्त की धुंध में छुप जाते हैं ताल्लुक,
बहुत दिनों तक किसी की आँख से ओझल ना रहिये।।

 

7. आँखों की नमी बढ़ गई,
बातों के सिलसिले कम हो गए,
जनाब ये वक़्त बुरा नहीं है,
बुरे तो हम हो गए।

 

8. जनाब मालूम नहीं था की ऐसा भी एक वक़्त आएगा,
इन बेवक़्त मौसमों की तरह तू भी क्षणभर में यु बदल जायेगा।

 

9. ऐ बुरे वक्त, जरा अदब से पेश आ,
वक्त नही लगता वक्त बदलने में।

 

10. खफा हम किसी से नहीं जनाब बस जरा वक़्त की कमी है,
आसमान में उड़ने का एक ख्वाब है और पैरों तले जमीं है।

 

11. बुरा हो वक्त तो सब आजमाने लगते हैं
बड़ो को छोटे भी आँखे दिखाने लगते हैं
नये अमीरों के घर भूल कर भी मत जाना
हर ek चीज की कीमत बताने लगते हैं

guzra hua waqt shayari in hindi

12. काश इस गुमराह दिल को ये मालूम होता कि,
मोहब्बत उस वक्त तक ही दिलचस्प होती है
जब तक नहीं होती है।।

 

13. आँखो में यु समन्दर लिए किनारे कि तलाश में हूँ,
इस वक्त को वक्त देकर वक्त पाने कि आस में हूँ।

 

14. हर वक्त मेरा वहम नहीं जाता,
एक बार और कह दो की तुम मेरे हो।।

 

15. वक़्त के साथ वक़्त से ही लड़ रहें है,
वक़्त के ही खेल में वक़्त से आगे निकल रहें है।

 

16. ज़िन्दगी की जरूरतें समझिए वक्त कम है फरमाइश लम्बी हैं,
झूठ-सच, जीत-हार की बातें छोड़िये दास्तान बहुत लम्बी है।।

 

17. इस वक़्त का मारा हु जनाब,
वक़्त पलटने की राह देख रहा हूं,
कभी मै भी शेर था अपने उस जंगल का,
पर आज वक़्त का शिकार हो गया हूं।

 

18. वो खूबसूरत बचपन सबको याद आता है,
जो वक्त के साथ यु बीत जाता है।

 

19. वक्त बदलते देर नहीं लगती,
ये सब कुछ भुला भी देता है सिखा भी देता है।।

 

20. खूब करता है, वो मेरे ज़ख्म का इलाज,
कुरेद कर देख लेता है और कहता है वक्त लगेगा।।

waqt shayari 2 lines

 

21. कुछ और वक्त बेशक लगा कर आना,
लेकिन जरूर कुछ वक्त लेकर आना।

 

22. वो वक़्त भी बहुत खास होता है,
जब सर पर माता पिता का हाथ होता है।

 

23. मैं तो वक्त से हार कर सर झुकाएँ खड़ा था,
सामने खड़े कुछ लोग ख़ुद को बादशाह समझने लगे।।

 

24. प्यार अगर सच्चा हो तो कभी नहीं बदलता,
ना वक्त के साथ ना हालात के साथ।।

 

25. कौन कहता है कि वक्त बहुत तेज है,
कभी किसी का इंतजार तो करके देखो।।

 

26. ये वक्त गुजरता रहता है,
इंसान भी बदलता रहता है,
संभाल लो खुद को तुम जनाब,
वक्त खुद चीख कर कहता है।

 

27. लोगों पर भरोसा करते वक्त ज़रा सावधान रहिये,
क्युकि फिटकरी और मिश्री एक जैसे ही नजर आते है।।

 

28. इश्क़ का लम्हा महज़ एक वक़्त का फ़साना है,
और वक़्त की तो फ़ितरत ही बदल जाना है।

 

29. सुनो कभी तोहफे में घड़ी दी थी तुमने,
अब जब भी देखती हूं तो यही ख्याल आता है,
काश तुम थोड़ा वक़्त भी देते।

 

30.  तो क्या हुआ गर महंगे खिलौने के लिए जेब में पैसे नहीं,
मैं वक्त देता हूँ मेरे बच्चों को जो अमीरों को मयस्सर नहीं।।

हम आपके लिए लाए हैं वो शायरी जो ‘Shayari In Waqt Shayari’ की गहराई को बताने और समझाने में आपकी मदद करेगी ‘वक़्त’ एक ऐसा लफ़्ज़ जिसने अपने अंदर कई सदियों को पनाह दिया है. समंदर से भी गहरे इस लफ़्ज़ में पूरी क़ायनात सांस लेती हैं. ‘वक़्त’ के कई रंग होते हैं. कभी ख़ुशनुमा तो कभी ग़मग़ीन. वक़्त ने हम सब को अपने अंदर जकड़ा हुआ है. इस लफ़्ज़ पर जितना कुछ भी लिखा जाए या कहा जाए वो कम ही लगता है. अक्सर हम किसी ख़ास वक़्त को लफ़्ज़ों में बयां करने की कोशिश करते हैं मगर क़ामयाब नहीं हो पाते हैं. इसलिए हम आपके लिए लाए हैं वो शायरी जो ‘वक़्त’ की गहराई को बताने और समझाने में आपकी मदद करेगी.Also Read – रौशनी है किसी के होने से… पढ़िए ‘रौशनी’ पर कुछ चुनिंदा शायरी

Categories Shayari

Leave a Comment